Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Filter by Categories
art & culture
business
crime
editorial
education
entertainment
environment
fashion
Feature
food
ground-zero-panchayat-news
INSPIRING LIFE
Interview
Legal Corner
Lifestyle
Mother's Day Special
Neutral Opinion
News
Not "Sushegad" Goenkar
Opinion
politics
Pune Express
social
sports
Tech
Tourism
Trending
Uncategorized
येवा कोकणात

धार्मिक विधी में खुद को ब्राम्हण बताकर अपनी जाति छुपानेवाली महिला के खिलाफ मामला दर्ज

गुणवंती परस्ते

पुणे – पुणे में एक अजब ही मामला सामने आया है, जहां पुणे हमेशा से लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र रहा है, वहीं दूसरी ओर उच्च शिक्षा प्राप्त करने के बाद और उच्च पद पर विराजमान होने के बावजूद लोगों से जात-पात का मुद्दा नहीं छोड़ते हैं. 80 वर्षीय महिला के खिलाफ इसलिए मामला दर्ज किया गया क्योंकि वह खुद को ब्राम्हण बताकर धार्मिक विधी में खाना बनाने का काम कर रही थी. जब सच्चाई सामने आयी कि महिला ब्राम्हण नहीं है, यादव है तो महिला के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज की गई, ब्राम्हण बताकर हमारे धार्मिक विधी में खाने बनाने का काम करके धर्म भ्रष्ट किया गया है. यह शिकायत किसी और ने नहीं पुणे के मौसम विभाग की पूर्व संचालिका डॉ. मेधा खोले ने सिंहगड पुलिस स्टेशन में दर्ज करवाया है.

पुलिस द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार डॉ. मेधा कुलकर्णी (उम्र 50) ने पुणे के धायरी में रहनेवाली निर्मला यादव के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाया है. डॉ. मेधा खोले मौसम विभाग में उच्च पद पर कार्यरत हैं. डॉ. खोले के घर में हर साल गणपति विराजमान किया जाता है, साथ ही माता पिता का श्राद्ध विधी भी रहता है. जिसके लिए धार्मिक विधी में खाने बनाने के लिए सिर्फ उनको ब्राम्हण महिला ही चाहिए होती है. महिला मई 2016 में काम ढूंढते हुए डॉ. खोले के घर गई थी. मैं धार्मिक विधी में खाना बनाने का काम करती हूं ऐसा बताया था. डॉ. खोले ने महिला के घर जाकर पूछताछ की और महिला को तुरंत काम पर रख लिया था.

महिला डॉ. खोले के घर में हर धार्मिक विधी में खाना बनाया करती थी, महिला ने 2016 में श्राद्ध के समय, सितंबर महीने में गौरी गणपति के समय और 2017 में भी गणपति और माता पिता के श्राद्ध के समय भगवान को भोग के रूप में चढ़ाए जानेवाला भोजन बनाया था. निर्मला ब्राम्हण नहीं है, इस बात की जानकारी डॉ. खोले के गुरूजी ने दी. काम पर लगने से पहले निर्मला ने अपना पूरा नाम निर्मला कुलकर्णी बताया था, जबकि निर्मला का असली नाम निर्मला यादव है. यह बात पता चलते ही डॉ. मेधा खोले निर्मला के घर पूछताछ करने गयी. तब निर्मला ने अपना सही नाम निर्मला यादव बताया. इस बात को लेकर दोनों में काफी बहस हुई और हाथापायी भी हुई. दोनों ने इस दूसरे के खिलाफ पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज करवायी है.

निर्मला की शिकायत के अनुसार डॉ. मेधा खोले के खिलाफ मारपीट की शिकायत  दर्ज करवायी है और निर्मला को उसके काम के पैसे नहीं देने के मामले में भी धोखाधड़ी की भी शिकायत दर्ज करवायी है.

September 8th, 2017

Posted In: Pune Express

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

Neutral Opinion

BIGGER THE VEHICLE BIGGER THE RESPONSIBILITY

RAJ GONSALVES   As usual today when I left from home to drop my daughter to school, I jus.. read more

Recent Comments

All rights reserved copyright ©2017
Visitor Count: 357387
Designed and maintained by Leigia Solutions