पेट्रोल चोरी करते हुए पकड़े गए चोर, सामने आया मर्डर का सच

January 13th, 2018 Posted In: Pune Express

गुणवंती परस्ते
 
पुणे – बाइक का पेट्रोल समाप्त होने के बाद, दूसरे की गाड़ी से पेट्रोल चोरी करते समय पकड़े गए चोरों का सच सामने आया. लूट के इरादे से कुछ दिनों पहले बाइक और मोबाइल चोरों ने एक व्यक्ति की लूट के इरादे से हत्या कर दी थी. इस घटना का खुलासा पुलिस की कड़ी पूछताछ के दौरान सामने आया. रात के समय पेट्रोलिंग करते समय पुलिस ने इन चोरों को पेट्रोल चुराते समय रंगे हाथ पकड़ा था. इस मामले में फरासखाना पुलिस स्टेशन ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है. पुणे के ग्रामीण क्षेत्र चाकण में कुछ दिनों पहले एक व्यक्ति के सिर पर पत्थर से वार करके हत्या कर दी गई थी. इस मामले में गिरफ्तार किए गए तीन चोरों द्वारा हत्या किए जाने की जानकारी परिमंडल 1 के पुलिस उपायुक्त बसवराज तेली ने पत्रकार परिषद में दी. 
 
 
इस मामले में पुलिस ने शिवशंकर बालासाहेब मोरे (उम्र 19, निवासी चाकण, पुणे), नवनाथ शांताराम बच्चे (उम्र 20, निवासी खेड) और किरण कैलास बंदावणे (उम्र 22, निवासी खेड) को गिरफ्तार किया गया है. यह तीनों पुणे के ग्रामीण जिले के निवासी हैं, पर पुणे शहर में बाइक चोरी के इरादे से आए हुए थे, लेकिन उनकी ही गाड़ी का पेट्रोल चोरी होने के बाद, वो पार्क की हुई दूसरे की गाड़ी से पेट्रोल चोरी कर रहे थे, इस दौरान पेट्रोलिंग कर रहे पुलिस हवालदार बापूसाहेब खुटवड और पुलिस कॉन्सटेबल अमेय रसाल ने शिवशंकर मोरे को गिरफ्तार किया था. पुलिस पूछताछ में आरोपी ने बाकी दो साथियों की नाम भी पुलिस के सामने बता दिए थे. बाकी दोनों आरोपियों को गिरफ्तार करके पुलिस ने 6 टूव्हीलर और 3 मोबाइल फोन बरामद किए. 
 
पुलिस की कड़ी पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि लूट और चोरी के इरादे से एक व्यक्ति की हत्या करने की बात भी बतायी. चाकण परिसर में कुछ दिनों पहले धनंजय साहेबराव चौधरी (उम्र 36) की हत्या कर दी थी. मृतक एमआईडीसी चाकण परिसर में एक कंपनी में हेल्पर का कार्य करता था और कंपनी से छुट्टी होने के बाद वो अपने घर जा रहा था. तीनों ने लूट के इरादे से मृतक को रोका और जबरन उसके गले से चैन लूटनी चाहिए. जिसका विरोध मृतक धनंजय ने किया, धनंजय द्वारा विरोध किए जाने पर तीनों आरोपियों ने उसे जान से मारकर सुनसान इलाके में फेंक दिया था. तीनों कंपनी में काम से छूटने के बाद साथ में शराब पीने की आदत थी, शराब के लिए पैसे कम पड़ने के लिए वो राह चलते लोगों को डरा धमकाकर लूटा करते थे. 
 
यह कारवाई फरासखाना पुलिस स्टेशन के सीनियर पुलिस इंस्पेक्टर बालकृष्ण अंबुरे, पुलिस इंस्पेक्टर (क्राइम) राजेंद्र चव्हाण, जांच दल के सहायक पुलिस निरिक्षक महेंद्र जाधव, पुलिस कर्मचारी बापूसाहेब खुटवड, अमेय रसाल, संदीप पाटिल, विनायक शिंदे, दिनेश भांदुर्गे, हर्षल शिंदे, इकबाल शेख, योगेश जगताप, संजय गायकवाड, ज्ञानेश्वर देवकर, शंकर कुंभार, विकास बोरहाडे, अमोल सरडे, विशाल चौगुले, राजन शिंदे ने की है.   

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

All rights reserved copyright ©2017
Visitor Count: 690349
Designed and maintained by Leigia Solutions